All for Joomla All for Webmasters
Tumhe soche bin nind aae to kaise front cover
Tumhe soche bin nind aae to kaise cover
Tumhe soche bin nind aae to kaise front coverTumhe soche bin nind aae to kaise cover

Tumhen Soche Bina Nind Aaye To Kaise?

Book Name- Tumhen Soche Bina Nind Aaye To Kaise?
Author- Mr. Rakesh Singh Sonu
Book Version- Paperback
Publication- Ams Publication
Pages- 128
Language- Hindi
Edition- First, 2017
Catigory- Geet Ghazal Shayri Sangrah

125.00 99.00

Quantity
Compare

Product Description

 वह( राइटर) ‘उससे’ जुदा होने के डर से रोता था… एक दिन ‘वो’ उस लड़के से दूर हो गयी और उसकी हाफ गर्लफ्रेंड बन गयी. लड़का बहुत इमोशनल था. लड़की की याद में दिन रात रोते हुए लड़के की हालत दिन-ब-दिन खराब होने लगी…. ऐसी परिस्थिति में वह फ्रस्टेशन में जा सकता था या आत्महत्या कर सकता था. लेकिन उसने चुनी एक अलग राह… एक प्रण लेने के साथ कि अपनी ज़िन्दगी में ‘उसकी’ जगह वह अब किसी और को नहीं लेने देगा चाहे उसे कंवारा ही क्यों ना रहना पड़ जाए… अबसे वो अपनी हर सफलता प्रेमिका के नाम समर्पित करता चला जायेगा. और उसी कड़ी में जन्म हुआ इस रोमांटिक पुस्तक ‘तुम्हें सोचे बिना नींद आये तो कैसे?’ का जो पाठकों के सामने है……
किसी से सच्चा प्यार हो जाए और साथ साथ कसमें खाने के बाद जब अचानक से दिल टूट जाए तो ऐसे ही दर्द भरे अल्फाज निकलते हैं टूटे हुए दिल से – ‘तुम्हें सोचे बिना नींद आये तो कैसे ?’  सच्चे प्रेमियों को समर्पित और प्रेमिका की याद में आंसू बहाते हुए लिखे दर्द भरे गीत गजलों का संग्रह है ‘तुम्हें सोचे बिना नींद आये तो कैसे?’ जो सच्चे प्यार की दास्ताँ सुना जाती है.
पुस्तक में पढ़ें –
1. रोमांटिक गीत
2. दर्द भरे गीत
3. वाट्सअप शायरी

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Tumhen Soche Bina Nind Aaye To Kaise?”

Your email address will not be published. Required fields are marked *